PM Launched Rs 75 Coin

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खाद्य और कृषि संगठन के साथ भारत के लंबे समय से चले आ रहे संबंधों को चिह्नित करने के लिए 16 अक्टूबर को खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) की 75 वीं वर्षगांठ के अवसर पर ७५ रुपये मूल्य का स्मारक सिक्का जारी करेंगे ।

इस अवसर पर एक वेब प्रसारण के माध्यम से प्रधानमंत्री ने 17 नई जैवोर्ीकृत फसल किस्मों का विमोचन भी किया और न्यूनतम समर्थन मूल्य [एमएसपी] पर कृषि फसलों की खरीद के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता दोहराई ।

 

75 rs coin in india
75 rs coin in india

Image credit: https://images.indianexpress.com/2020/10/coin-new.jpg

“यह घटना कृषि और पोषण के लिए सरकार द्वारा दी गई सर्वोच्च प्राथमिकता का प्रतीक है, और भूख, कुपोषण और कुपोषण को पूरी तरह से खत्म करने के संकल्प का वसीयतनामा है ।

ON FAO’s 75th Anniversary

वित्त मंत्रालय की अधिसूचना में कहा गया है, “७५ रुपये मूल्य वर्ग का सिक्का केवल केंद्र सरकार के अधिकार के तहत जारी करने के लिए टकसाल में गढ़ा जाएगा ‘ 75 वीं वर्षगांठ के अवसर पर तिरंगा फहराने की 75 वीं वर्षगांठ ‘ पहली बार नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा पोर्ट ब्लेयर में ।

यह अवसर सरकार द्वारा कृषि और पोषण को दी गई सर्वोच्च प्राथमिकता का प्रतीक है और यह भूख, कुपोषण और कुपोषण को पूरी तरह से खत्म करने के संकल्प का वसीयतनामा है । इसमें देशभर की आंगनबाड़ियों, कृषि विज्ञान केंद्रों, जैविक और बागवानी मिशनों की गवाही होगी। इस मौके पर केंद्रीय कृषि मंत्री, वित्त मंत्री और महिला एवं बाल विकास मंत्री (डब्ल्यूसीडी) मंत्री भी मौजूद रहेंगे।

पीटीआई की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि स्मारक ७५ रुपये का सिक्का ५० प्रतिशत चांदी, ४० प्रतिशत तांबे और 5 प्रतिशत निकेल और जिंक में से बनाया जाएगा और इसका वजन ३५ ग्राम होगा । यह सिक्का पोर्ट ब्लेयर में सेलुलर जेल की पृष्ठभूमि पर झंडे को सलाम करने वाले ‘नेताजी सुभाष चंद्र बोस’ के चित्र को वहन करेगा।

Commemorate Meaning

शिलालेख “वर्षगांठ” के साथ एक अंक 75 वें चित्र के नीचे चित्रित किया जाएगा । सिक्का देवनागरी लिपि और अंग्रेजी दोनों में ‘ पहला ध्वजारोहण दिवस ‘ कहते हुए एक शिलालेख ले जाएगा ।

इस बयान में कहा गया है कि कमजोर वर्गों और जनता को आर्थिक और पोषण के लिए मजबूत बनाने में एफएओ की यात्रा अद्वितीय रही है ।

भारतीय सिविल सेवा के अधिकारी बिनय रंजन सेन 1956-1967 के दौरान एफएओ के महानिदेशक थे । यह कहा गया है कि नोबेल शांति पुरस्कार २०२० जीत चुके विश्व खाद्य कार्यक्रम की स्थापना उनके समय में की गई थी ।

Video Credit: Live Hindustan

“कमजोर वर्गों और जनता को मजबूत बनाने में एफएओ की यात्रा, आर्थिक और पोषण, अद्वितीय किया गया है । भारत का एफएओ के साथ ऐतिहासिक संबंध रहा है। भारतीय सिविल सेवा के अधिकारी डॉ बिनय रंजन सेन 1956-1967 के दौरान एफएओ के महानिदेशक थे । नोबेल शांति पुरस्कार 2020 जीत चुके विश्व खाद्य कार्यक्रम की स्थापना उनके समय में हुई थी। पीएमओ ने कहा कि 2016 में अंतर्राष्ट्रीय दालों के वर्ष और सहस्राब्दियों के अंतर्राष्ट्रीय वर्ष 2023 के लिए भारत के प्रस्तावों का भी एफएओ ने समर्थन किया है।

“एमएसपी और सरकारी खरीद देश की खाद्य सुरक्षा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं । यह महत्वपूर्ण है कि यह बेहतर सुविधाओं और वैज्ञानिक तरीके से कार्य करता रहे । उन्होंने कहा, हम इसके प्रति प्रतिबद्ध हैं ।

भारत ने स्टंटिंग, कुपोषण, खून की कमी और जन्म के कम वजन को कम करने के उद्देश्य से १००,०००,००० से अधिक लोगों को लक्षित करते हुए एक महत्वाकांक्षी ‘ पोषण अभियान ‘ शुरू किया है ।

Final Words

पचहत्तर साल बाद सरकार ने इस ऐतिहासिक घटना को यादगार बनाने के लिए 75 रुपये का सिक्का जारी करने की घोषणा की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here